Header Ads

समाज के लिए आदर्श बन करें दूसरों को प्रेरित - कुलपति.

कुलपति ने कहा कि सेमिनार में निर्धारित 3 विषयों और स्वच्छता, बाल विवाह एवं दहेज प्रथा परिवार समाज एवं राष्ट्र के लिए सामाजिक कुरीति सामाजिक अपराध और सामाजिक अभिशाप भी है

- बिना दहेज के अपने सुयोग्य पुत्रों की शादी करने वालों को किया गया सम्मानित.

- जननायक कर्पूरी ठाकुर के तैल चित्र पर अर्पित की पुष्पांजलि.


बक्सर टॉप न्यूज़, बक्सर: स्थानीय जननायक कर्पूरी ठाकुर विधि महाविद्यालय के सभागार में अस्वच्छता, बाल-विवाह एवं दहेज प्रथा विषयों पर सेमिनार का आयोजन किया गया. कार्यक्रम की अध्यक्षता संस्थापक अध्यक्ष गणपति मंडल ने की. जबकि मंच संचालन वरीय अधिवक्ता रामेश्वर प्रसाद वर्मा ने किया निर्धारित कार्यक्रम के तहत विधि महाविद्यालय की छात्राओं ने स्वागत गान प्रस्तुत किया. वहीं महाविद्यालय की तरफ से आमंत्रित मुख्य अतिथि, वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ.देवी प्रसाद तिवारी प्रति कुलपति डॉ. नंदकिशोर साहा एवं कुलानुशासक डॉ. शिवप्रसाद सिंह के साथ-साथ भारतीय लोक प्रशासन संस्थान, नई दिल्ली के सदस्य सत्य नारायण पांडेय, देववंश सिंह, डॉ. कुमार कौशलेंद्र, राजेश कुमार सिन्हा एवं विधि महाविद्यालय आरा के सचिव सह वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के सदस्य अधिपद डॉ. विनोद कुमार सिंह को शॉल समर्पित कर सम्मानित किया गया. उक्त अवसर पर बिना तिलक-दहेज के अपने सुयोग्य पुत्रों की शादी करने के लिए आदर्श अभिभावक लता श्रीवास्तव एवं भोला नाथ सिंह सहित आदर्श कर्मी जगरनाथ राम को कुलपति डॉ. देवी प्रसाद तिवारी के हाथों सम्मान पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया. सेमिनार को संबोधित करते हुए कुलपति ने कहा कि सेमिनार में निर्धारित 3 विषयों और स्वच्छता, बाल विवाह एवं दहेज प्रथा परिवार समाज एवं राष्ट्र के लिए सामाजिक कुरीति सामाजिक अपराध और सामाजिक अभिशाप भी है. उन्होंने अपने प्रति किए गए सम्मान के लिए आभार प्रकट किया. इसके पूर्व उन्होंने जननायक कर्पूरी ठाकुर के तैल चित्र पर पुष्प अर्पित कर उनके प्रति श्रद्धांजलि निवेदित की. उन्होंने कहा कि हम स्वयं समाज के लिए आदर्श बने और दूसरों को भी आदर्श बनने के लिए प्रेरित करें. कार्यक्रम के विषय में जानकारी देते हुए  प्राचार्य डॉ. कृष्ण अली अल्बर्ट ने बताया कि कार्यक्रम में महाविद्यालय के सचिव डॉ. विनोद कुमार सिंह के साथ-साथ अन्य उपस्थित अतिथियों ने भी अपने उद्गार व्यक्त किए.














No comments