Header Ads

वीडियो: लापरवाही पड़ सकती है आस्था पर भारी ..

रामरेखा घाट तथा सती घाट कई मायनों में काफी अहम है. इस घाट पर नगर सहित जिले भर से श्रद्धालु अर्घ्य देने पहुंचते है. उन्हें गंदगी तथा खतरनाक घाटों की वजह से भारी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है

- छठ को लेकर नहीं अभी भी किए जाने है सुरक्षा इंतजाम.

- घाटों की बदहाल स्थिति बन सकती है जान पर भारी.


बक्सर टॉप न्यूज़, बक्सर: चैत्र नवरात्र शनिवार से प्रारंभ हो चुका है चैती छठ का पहला अ‌र्घ्य गुरुवार को है ऐसे में पहले अर्घ्य में महज दो दिन शेष रह गए हैं. जबकि, मंगलवार को नहाय-खाय से ही श्रद्धालु गंगा स्नान को घाटों पर उमड़ने लगी हैं. हालांकि, गंगा घाटों की सफाई नगर परिषद द्वारा शुरु की जा चुकी है. इस वजह से कुछ घाटों पर श्रद्धालुओं को राहत मिली है. लेकिन अभी भी कई घाटों पर गंदगी पसरी हुई है. रामरेखा घाट, सती घाट, गोला बाज़ार घाट समेत अन्य विभिन्न घाटों पर सुरक्षा के विशेष उपाय नहीं किए जा सके हैं. 

गोला घाट पर अधूरा है घाट निर्माण का कार्य, रामरेखा घाट पर जानलेवा है सीढ़ी:

गोला घाट तथा सती घाट घाट पर नमामि गंगे के तहत अधूरा निर्माण भी श्रद्धालुओं के लिए मुश्किलें खड़ा कर सकता है. घाटों पर होने वाली भीड़ के कारण दुर्घटना की आशंका बढ़ जा रही है. दूसरी तरफ रामरेखा घाट पर टूटी सीढियां भी दुर्घटना को आमंत्रण देती नज़र आ रही हैं.

रामरेखा घाट तथा सती घाट कई मायनों में काफी अहम है. इस घाट पर नगर सहित जिले भर से श्रद्धालु अर्घ्य देने पहुंचते है. उन्हें गंदगी तथा खतरनाक घाटों की वजह से भारी परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है. 

स्थानीय पुजारी धनंजय पंडा ने बताया कि छठ के दौरान जब स्थानीय पुजारी व पंडा घाटों की साफ सफाई कर देते हैं उसके बाद नगर परिषद की टीम पीछे से पहुंचती है तथा साफ सफाई का दिखावा करती है. वहीं रोहतास के दावथ से पहुंचे लाल बाबू राम ने बताया कि रामरेखा घाट की सीन टूट चुकी है तथा उसमें सरिया झाँक रहा है जो साफ तौर पर दुर्घटना को आमंत्रित करता नजर आ रहा है. आश्चर्य तो इस बात का है कि नगर परिषद के लोगों का इसपर ध्यान क्यों नहीं जाता.

स्थानीय निवासियों ने भी बताया कि सफाई नहीं कराई गई तो छठ पर्व पर व्रतियों को भारी परेशानी हो सकती है. हालांकि, इस छठ पर्व में व्रतियों की संख्या कुछ कम रहती है. लेकिन, वर्तमान परिस्थितियों के कारण उन्हें भारी परेशानी उठानी पड़ती हैं. व्रतियों तथा अन्य श्रद्धालुओं को भी गंदगी के बीच में पूजन करना मजबूरी बन जाता है.

कहते हैं जनप्रतिनिधि:

गंगा घाटों के साफ-सफाई का कार्य शुरु हो चुका है. शीघ्र ही सभी घाटों की साफ-सफाई का कार्य सुनिश्चित कराया जाएगा. साथ ही साथ घाटों की बैरिकेडिंग वगैरह की व्यवस्था भी की जाएगी.

इन्द्रप्रताप सिंह
उप मुख्य पार्षद
नगर परिषद
  • वीडियो: 

राघव पांडेय एवं रोहित ओझा की रिपोर्ट














No comments