Breaking

Post Top Ad

30 Oct 2018

Buxar Top News: देश की तरक्की को लेकर विज्ञान सह स्वास्थ्य प्रदर्शनी का आगाज़ ..

आगामी  31 अक्टूबर तक चलने वाले  इस मेले में इसरो, भाभा ऑटोमिक, डीआरडीओ आयुष मंत्रालय कृषि विज्ञान केंद्र, सीओआईआर बोर्ड जैसी नामचीन संस्थान भाग ले रही हैं.

- केंद्रीय राज्य मंत्री सह सांसद अश्विनी कुमार चौबे ने किया उद्घाटन.
- विद्यालय में विज्ञान भवन निर्माण के लिए 15 लाख रुपये देने की घोषणा

बक्सर टॉप न्यूज़, बक्सर: विज्ञान प्रौद्योगिकी मंत्रालय द्वारा विज्ञान व प्रौद्योगिकी कार्यशाला सह प्रदर्शनी(विज्ञान मेला) एवं आरोग्य उत्सव का आयोजन किया गया.  सोमवार को इसका शुभारंभ को केंद्रीय स्वास्थ एवं परिवार कल्याण राज्यमंत्री अश्विनी चौबे ने दिन में तकरीबन 2 बजे किया. प्रदर्शनी का आयोजन अहिरौली स्थित सरस्वती विद्या मंदिर में किया गया था. आगामी  31 अक्टूबर तक चलने वाले  इस मेले में इसरो, भाभा ऑटोमिक, डीआरडीओ आयुष मंत्रालय कृषि विज्ञान केंद्र, सीओआईआर बोर्ड जैसी नामचीन संस्थान भाग ले रही हैं.



केंद्रीय राज्यमंत्री श्री चौबे ने अपने अभिभाषण में कहा कि विज्ञान से हम सुनहरे भविष्य के द्वार खोल सकते हैं. प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी विज्ञान की पढ़ाई के लिए वैज्ञानिक बनने के लिए बड़े पैमाने पर का आयोजन किया गया है, ताकि बड़ी संख्या में छात्र  का लाभ उठा सकें. उन्होंने कहा कि भारत की मजबूती जय जवान जय किसान और जय विज्ञान पर टिकी हुई है. इस तरह के प्रदर्शन का अधिक से अधिक की संख्या में लाभ उठाना चाहिए. उन्होंने कहा कि क्षेत्र में भारत की सफलता 4 सालों में महत्वपूर्ण रही है. उन्होंने स्कूल में विज्ञान भवन के लिए 15 लाख रुपये देने की घोषणा भी की. इस अवसर पर भाजपा जिला अध्यक्ष राणा प्रताप सिंह, महामंत्री मदन दुबे, वरिष्ठ भाजपा नेता सत्येंद्र कुंवर सहित बड़ी संख्या में पार्टी के पदाधिकारी और कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी मौजूद रहे.दूसरी तरफ विद्यालय परिवार से सचिव डॉक्टर रमेश कुमार, प्रधानाचार्य मिथिलेश ठाकुर, कोषाध्यक्ष ओम प्रकाश कुमार, आचार्य अनूप चौबे, विवेक राय, मदन पांडेय, हेमशंकर, धीरेंद्र कुमार, कुंदन कुमार, अमित कुमार, ईश्वर कुमार तथा इसरो के वैज्ञानिक कुमार हर्षित, जीवन कुमार पंडित, वाइके श्रीवास्तव तथा मार्गदर्शक राहुल मिश्र, प्रियम तिवारी, अमित ओझा, स्वाति, प्रियांशी, इंजीनियर आशीष मिश्रा, इंजीनियर रोहित पांडेय समेत अन्य लोग मौजूद रहे. 

प्रदर्शनी के नोडल अधिकारी डॉ. एस. के. पांडेय ने बताया कि प्रदर्शनी का आयोजन कस्बे और छोटे शहरों में किया जा रहा है, ताकि अधिक से अधिक युवा वर्ग, खासकर छात्र, किसान आदि लाभ उठा सकें. प्रदर्शनी में आयुष मंत्रालय के द्वारा होम्योपैथी आयुर्वेद से संबंधित कैंप लगाए गए हैं, साथ ही इसरो के द्वारा बच्चों को  अंतरिक्ष अनुसंधान से जुड़ी जानकारियों से अवगत कराया जाएगा. वहीं कृषि से संबंधित कई नवीनतम खोज आदि की भी जानकारी दी जाएगी. तीन दिवसीय प्रदर्शनी के पहले दिन बड़ी संख्या में लोग पहुँचे थे.

उन्होंने बताया कि यह मेला ऐसे किसानों के लिए लाभदायक है जो कृषि विज्ञान और प्रौद्योगिकी में नवीनतम विकास और इंडियन काउंसिल ऑफ एग्रीकल्चरत रिसर्च द्वारा फसल विविधीकरण का उपयोग करके अपनी आय को बढ़ाना चाहते हैं. वैसे उद्यमी, अथवा बेरोजगार जो नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉरपोरेशन, केवीआईसी, सीबी द्वारा क्षमता, कौशल विकास और लाभ बढ़ाना चाहते हैं. ऐसे बेरोजगार जो भारत सरकार के उन्नत कौशल वाले आरएंड डी विभागों एसएंडटी, सशस्त बलों आदि में रोजगार प्राप्त करना चाहते हैं छात्र, जो अनुसंधान प्रयोगशालाओं, विज्ञान और प्रौद्योगिकी भारत सरकार के वैज्ञानिक विभागों में करियर और नौकरियां करना चाहते हैं.आम जनता जो वैकल्पिक चिकित्सा और भारतीय चिकित्सा पद्धति योग मुद्रा, ध्यान पद्धति में विश्वास करती है. साथ ही आयुर्वेद, होम्योपैथी और यूनानी चिकित्सकों से निशुल्क सामान्य स्वास्थ्य जांच भी करा सकते हैं. तीन दिन तक विज्ञान उत्सव में भारत सरकार के विभिन्न विभागों संस्थाओं द्वारा कार्यशालाएं व व्याख्यान होंगे.























No comments:

Post a Comment

Post Top Ad