Breaking

Post Top Ad

25 Oct 2018

Buxar Top News: धर्म की रक्षा के संकल्प के साथ श्री लक्ष्मी नारायण महायज्ञ तथा अंतरराष्ट्रीय धर्म सम्मेलन सम्पन्न ..

बताया जा रहा है कि इस दौरान दो लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने यज्ञ स्थल की परिक्रमा की और त्रिदण्डी के परम शिष्य श्री लक्ष्मी प्रपन्न जीयर स्वामी जी महाराज से आशीर्वाद प्राप्त किया.

- अगले वर्ष चंदौली में आयोजित होगा महायज्ञ.
- दो लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने की यज्ञ मंडप की परिक्रमा.

बक्सर टॉप न्यूज़, बक्सर: धर्म की रक्षा और सामाजिक सद्भाव संकल्प के साथ बुधवार को इटाढ़ी प्रखंड के कासिमपुर में आयोजित चातुर्मास्य महायज्ञ सह अंतरराष्ट्रीय धर्म सम्मेलन का समापन हो गया. बताया जा रहा है कि इस दौरान दो लाख से ज्यादा श्रद्धालुओं ने यज्ञ स्थल की परिक्रमा की और त्रिदण्डी के परम शिष्य श्री लक्ष्मी प्रपन्न जीयर स्वामी जी महाराज से आशीर्वाद प्राप्त किया. समापन के मौके पर संतों ने सात्विक और धर्म के अनुकूल आचरण करने का युवाओं से आह्वान किया.

समापन सत्र को संबोधित करते हुए संत अयोध्या के जगदगुरु द्वारकाधीश सूर्य नारायणाचार्य जी ने कहा कि युवा वर्ग जिन व्यसनों का आदि हो रहा है, वह चिंता का विषय है. उन्होंने कहा कि भारत अनेक वर्षों तक आक्रांताओं के चंगुल में रहा और उनके द्वारा लाए गए धर्म के विपरीत आदतें यहां के लोगों को भी लग गई. पहले लोग मांसाहार का इस्तेमाल खानपान में नहीं करते थे, लेकिन सालों तक मुगलों के यहां राज करने के कारण हमारे देश में भी मांसाहार का प्रचलन बढ़ा. उन्होंने कहा कि हमारे पूर्वज धोती पहनते रहे, लेकिन नए लोग अपने साथ लुंगी लेकर आए. उदाहरण के रूप में इन वाक्यों का इस्तेमाल करते हुए उन्होंने कहा कि धर्म तभी बचेगा जब उसे मानने वाले उसके अनुरूप आचरण करेंगे. आज बहुत कम लोग शिखा रखते हैं. जो नहीं भी रखते, वे धर्म के अनुसार अपना आचरण करें, तभी धर्म के अनुयायी वे कहलाएंगे. उन्होंने कहा कि उन्हें सीख लेनी चाहिए मुस्लिम लोगों से जो हर शुक्रवार को मस्जिद में नमाज के लिए जाते हैं तो धर्म के अनुकूल पोशाक भी पहनते हैं. धर्म के प्रति ऐसी निष्ठा हमलोगों को भी प्रदर्शित करनी चाहिए.

वहीं जीयर स्वामी जी महाराज ने मंच से कार्यक्रम में भाग लेने आए सभी संतों को धन्यवाद दिया. इस मौके पर श्रद्धालु उनके दर्शन के लिए परेशान रहे. मंच से अगला चातुर्मास्य महायज्ञ चंदौली में और वर्ष 2020 में वाराणसी में होने की बात बताई गयी.  


इस दौरान पर राजनीतिक दलों से जुड़े लोग भी संत से मिलने पहुंचे थे कांग्रेस के जिलाध्यक्ष तथागत हर्षव‌र्द्धन, उपाध्यक्ष बजरंगी मिल, सत्येंद्र कुमार ओझा, त्रिलोकीनाथ मिश्रा, बब्लू सिंह, उमेशचंद्र उपाध्याय, भाजपा नेता प्रदीप दूबे आदि ने इस मौके पर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई. 


संतों की विदाई को लेकर आयोजित कार्यक्रम में अध्यक्ष छोटे उपाध्याय, मीडिया प्रभारी अखिलेश बाबा, रवीन्द्र कुमार सिंह, तूफानी बाबा, पंडित पप्पू जी, रंगनाथ सिंह, संजय मिश्र, कौशलेस दूबे, अरविंद तिवारी, संतोष तिवारी, पिंटू उपाध्याय आदि का योगदान सराहनीय रहा.





















No comments:

Post a Comment

Post Top Ad