Breaking

Post Top Ad

9 Oct 2018

Buxar Top News: विजयादशमी महोत्सव: अहिल्या के उद्धार के बाद श्री राम ने किया जनकपुर को प्रस्थान ..



श्री राम ताड़का का वध करने के बाद बक्सर स्थित विश्वामित्र जी के आश्रम में निवास कर रहे होते हैं. तभी मारीच व सुबाहु नामक राक्षस  उन पर आक्रमण कर देते हैं.

- किला मैदान में आयोजित है 21 दिवसीय महोत्सव.
- पारंगत कलाकारों ने दर्शकों को किया मंत्रमुग्ध.

बक्सर टॉप न्यूज, बक्सर: रामलीला समिति के तत्वाधान में नगर के रामलीला मैदान स्थित विशाल रामलीला मंच पर चल रहे 21 दिवसीय विजयदशमी महोत्सव के दौरान सोमवार को देर रात्रि रामलीला मंचन के दौरान "मारीच सुबाहु वध, अहिल्या उद्धार, गंगा दर्शन का मंचन किया गया."

जिसमें दिखाया गया कि श्री राम ताड़का का वध करने के बाद बक्सर स्थित विश्वामित्र जी के आश्रम में निवास कर रहे होते हैं. तभी मारीच व सुबाहु नामक राक्षस  उन पर आक्रमण कर देते हैं. तब श्री रामचंद्र एक ही बाण से मारीच का वध करते हुए समुद्र के पार पहुंचा देते हैं और सुबाहु सहित राक्षस दल का भी वध कर डालते हैं और आगे के लिए प्रस्थान करते हैं. आगे बढ़ने पर अहरौली स्थिति गौतम ऋषि के आश्रम में पहुंचते हैं. जहां ऋषि के शापित स्त्री अहिल्या का उद्धार करते हैं और गंगा दर्शन करते हुए जनकपुर को प्रस्थान करते हैं  आगे चलते हुए जनक जी के बगीचे में पहुंच जाते हैं.

वही इसके पूर्व दिन के कृष्ण लीला मंचन के दौरान "शोमय श्रृंगार" नामक प्रसंग का मंचन किया गया. इस मंचन के दौरान भगवान श्री कृष्ण को गोबर से अद्भुत श्रृंगार किए हुए दिखाया गया. मंचन को देख कर सभी दर्शक रोमांचित हो गए. मंचन के दौरान स्थानीय रामलीला मैदान दर्शकों से खचाखच भरा रहा. दर्शकों के जय श्री राम के जयघोष से वातावरण गुंजायमान होता रहा.

श्री धाम वृंदावन से पधारे सुप्रसिद्ध लीला मंडल "श्री श्यामा श्याम" रासलीला व रामलीला मंडल के स्वामी श्री शिव दयाल शर्मा (दत्तात्रेय) महाराज जी के सफल निर्देशन में उनके मंडली के पारंगत कलाकारों द्वारा उपस्तिथ लोगों का मन मोह लिया गया.

इस दौरान रामलीला मंच पर आयोजक दल में श्री राम लीला समिति के कार्यकारी अध्यक्ष रामावतार पांडेय, सचिव बैकुंठ नाथ शर्मा, संयुक्त सचिव व मीडिया प्रभारी हरिशंकर गुप्ता, कोषाध्यक्ष सुरेश संगम, साकेत कुमार श्रीवास्तव(चंदन), कृष्ण कुमार वर्मा, उप सचिव राजकुमार गुप्ता, मंच प्रभारी उदय सर्राफ जोखन, कामेश्वर तिवारी, बालेश्वर बैरागी, मदन जी दूबे, सुरेंद्र यादव, नारायण राय सहित अन्य पदाधिकारी मंचन के दौरान उपस्थित रहे.




















No comments:

Post a Comment

Post Top Ad